Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi-(जावेद अख्तर शायरी इन हिंदी)~Thenewshayari

Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi-(जावेद अख्तर शायरी इन हिंदी)

Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi-(जावेद अख्तर शायरी इन हिंदी)~Thenewshayari
Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi-(जावेद अख्तर शायरी इन हिंदी)~Thenewshayari

परिचय :-
Javed Akhtar का जन्म 17 जनवरी 1945 को हुआ था। Javed Akhtar एक भारतीय राजनीतिक कार्यकर्ता, कवि, गीतकार और पटकथा लेखक हैं। जो मूल रूप से ग्वालियर क्षेत्र के हैं। Javed Akhtar पद्म श्री (1999), पद्म भूषण (2007), साहित्य अकादमी पुरस्कार के साथ-साथ पाँच राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार भी प्राप्त कर चुके हैं। 

अपने करियर के शुरुआती दौर में वह एक पटकथा लेखक थे। जिन्होंने दीवान, ज़ंजीर और शोले जैसी फिल्में बनाईं। बाद में उन्होंने पटकथा लेखन छोड़ दिया और गीतकार और सामाजिक-राजनीतिक कार्यकर्ता बन गए। वे राज्य सभा के सदस्य भी रह चुके है।

उपलब्धिया :-
जावेद अख्तर का जन्म 1945 में ग्वालियर में हुआ था। उनके अब्बू जान  निसार अख्तर बॉलीवुड फिल्म गीतकार और उर्दू के महान कवि भी थे। उनके दादा जान मुज़्तर खैराबादी एक कवि थे। जो उनके दादा के बड़े भाई, बिस्मिल खैराबादी थे। जबकि उनके महान दादा, फ़ज़ल-ए-हक खैराबादी, इस्लामिक अध्ययन और धर्मशास्त्र के विद्वान थे। और उन्होंने प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। 

जीवनशैली :-

1857 में। जावेद अख्तर का मूल नाम जादु था। जो अपने पिता द्वारा लिखी गई एक कविता में एक पंक्ति से लिया गया था: "लमहा, लम्हा कैसी जदो का फासना होग"। उन्हें जावेद का आधिकारिक नाम दिया गया था। क्योंकि यह शब्द जादु के सबसे करीब था। उन्होंने लखनऊ में स्कूली शिक्षा प्राप्त की। उन्होंने भोपाल के सैफिया कॉलेज से स्नातक किया।

Javed Akhtar पाकिस्तानी लेखक इब्न-ए-सफी के उर्दू उपन्यासों से काफी प्रेरित थे। जो वे बचपन में पढ़कर बड़े हुए थे। Javed Akhtar जासूसी उपन्यास और The House of Fear (1955) जैसे जासूसी उपन्यासों की इमरान श्रृंखला से विशेष रूप से प्रभावित थे। 

फ़िल्मी कैरियर :-

वह उनकी तेज कार्रवाई, तंग भूखंडों, अभिव्यक्ति की अर्थव्यवस्था, आकर्षक नामों के साथ आकर्षक चरित्र और बोलने की शैली से प्रभावित था। दो शुरुआती फिल्मों में उन्होंने दिलीप कुमार शहीद लतीफ़ की आरज़ू (1950) और महबूब खान की आन (1952) दोनों को देखा था। 

एक बच्चे के रूप में उन्हें प्रभावित करने वाली अन्य फिल्मों में विमल रॉय की दो बीघा ज़मीन (1953), सत्येन बोस की जागृति (1954), श्री 420 (1955) राज कपूर द्वारा निर्देशित और ख्वाब अहमद अब्बास द्वारा लिखित, मुनीमजी (1955) सुबोध मुखर्जी द्वारा निर्देशित और शामिल हैं। नसीर हुसैन, और महबूब खान की मदर इंडिया (1957) द्वारा लिखित है। 

Javed Akhtar साहब ने अपने जीवन में कई कविताये, शायरी और नज़्मे लिखी उन्ही में आज हम Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi का कलेक्शन पेश करने जा रहे है। अगर आपको हमारी ये पोस्ट पोस्ट पसंद आये तो इसे शेयर करना ना भूले :-


Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi-(जावेद अख्तर शायरी इन हिंदी)~Thenewshayari
Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi-(जावेद अख्तर शायरी इन हिंदी)~Thenewshayari

ज़रा सी बात जो....

ज़रा सी बात जो फैली तो दास्तान बनी,
वो बात ख़त्म हुई दास्तान बाक़ी है...

बंध गई थी दिल...
बंध गई थी दिल में कुछ उम्मीद सी,
ख़ैर तुम ने जो किया अच्छा किया...

छोड़ कर जिस को गए...
छोड़ कर जिस को गए थे आप कोई और था,
अब मैं कोई और हूँ वापस तो आ कर देखिए...

अक़्ल ये कहती दुनिया....
अक़्ल ये कहती दुनिया मिलती है बाज़ार में,
दिल मगर ये कहता है कुछ और बेहतर देखिए...

तू तो मत कह....
तू तो मत कह हमें बुरा दुनिया,
तू ने ढाला है और ढले हैं हम...

तब हम दोनों वक़्त....
तब हम दोनों वक़्त चुरा कर लाते थे,
अब मिलते हैं जब भी फ़ुर्सत होती है...

तुम फ़ुज़ूल बातों...
तुम फ़ुज़ूल बातों का दिल पे बोझ मत लेना,
हम तो ख़ैर कर लेंगे ज़िंदगी बसर तन्हा...

ग़लत बातों को ख़ामोशी...
ग़लत बातों को ख़ामोशी से सुनना हामी भर लेना,
बहुत हैं फ़ाएदे इस में मगर अच्छा नहीं लगता...

दर्द के फूल भी खिलते....
दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैं,
ज़ख़्म कैसे भी हों कुछ रोज़ में भर जाते हैं...

मैं पा सका न कभी...
मैं पा सका न कभी इस ख़लिश से छुटकारा,
वो मुझ से जीत भी सकता था जाने क्यूँ हारा...


हमारे दिल में अब...
हमारे दिल में अब तल्ख़ी नहीं है,
मगर वो बात पहले सी नहीं है...

Javed Akhtar Shayari on Zindagi in Hindi
बहाना ढूँडते रहते हैं कोई रोने का,
हमें ये शौक़ है क्या आस्तीं भिगोने का...

धुआँ जो कुछ घरों से उठ रहा है,
न पूरे शहर पर छाए तो कहना...

कोई शिकवा न ग़म न कोई याद,
बैठे बैठे बस आँख भर आई....

यह भी पढ़े :-



Javed Akhtar on Life in Hindi
तब हम दोनों वक़्त चुरा कर लाते थे,
अब मिलते हैं जब भी फ़ुर्सत होती है,

आगही से मिली है तन्हाई,
आ मिरी जान मुझ को धोका दे,

खुला है दर प तिरा इंतिज़ार जाता रहा,
ख़ुलूस तो है मगर ए’तिबार जाता रहा...


Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi-(जावेद अख्तर शायरी इन हिंदी)~Thenewshayari
Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi-(जावेद अख्तर शायरी इन हिंदी)~Thenewshayari

Javed Akhtar Shayari on Love
ख़ून से सींची है मैं ने जो ज़मीं मर मर के,
वो ज़मीं एक सितम-गर ने कहा उस की है,

अगर पलक पे है मोती तो ये नहीं काफ़ी,
हुनर भी चाहिए अल्फ़ाज़ में पिरोने का,

डर हम को भी लगता है रस्ते के सन्नाटे से,
लेकिन एक सफ़र पर ऐ दिल अब जाना तो होगा...

Shayari Of Javed Akhtar
दुख के जंगल में फिरते हैं कब से मारे मारे लोग,
जो होता है सह लेते हैं कैसे हैं बेचारे लोग,

है पाश पाश मगर फिर भी मुस्कुराता है,
वो चेहरा जैसे हो टूटे हुए खिलौने का,

एक ये दिन जब अपनों ने भी हम से नाता तोड़ लिया,
एक वो दिन जब पेड़ की शाख़ें बोझ हमारा सहती थीं....

Javed Akhtar Sad Shayari in Hindi
तुम ये कहते हो कि मैं ग़ैर हूँ फिर भी शायद,
निकल आए कोई पहचान ज़रा देख तो लो,

उस दरीचे में भी अब कोई नहीं और हम भी,
सर झुकाए हुए चुप-चाप गुज़र जाते हैं,

अक़्ल ये कहती दुनिया मिलती है बाज़ार में,
दिल मगर ये कहता है कुछ और बेहतर देखिए...

Shayari Hindi Javed Akhtar 
छत की कड़ियों से उतरते हैं मिरे ख़्वाब मगर,
मेरी दीवारों से टकरा के बिखर जाते हैं,

ग़ैरों को कब फ़ुर्सत है दुख देने की,
जब होता है कोई हमदम होता है,

हम तो बचपन में भी अकेले थे,
सिर्फ़ दिल की गली में खेले थे...

Javed Akhtar Shayari on Love in Hindi
हर तरफ़ शोर उसी नाम का है दुनिया में,
कोई उस को जो पुकारे तो पुकारे कैसे,

इक मोहब्बत की ये तस्वीर है दो रंगों में,
शौक़ सब मेरा है और सारी हया उस की है,

इन चराग़ों में तेल ही कम था,
क्यूँ गिला फिर हमें हवा से रहे....

Javed Akhtar 2 Line Shayari
ग़लत बातों को ख़ामोशी से सुनना हामी भर लेना,
बहुत हैं फ़ाएदे इस में मगर अच्छा नहीं लगता,

उस के बंदों को देख कर कहिए,
हम को उम्मीद क्या ख़ुदा से रहे,

मैं बचपन में खिलौने तोड़ता था,
मिरे अंजाम की वो इब्तिदा थी....

Javed Akhtar Shayari on Friendship
मुझे मायूस भी करती नहीं है,
यही आदत तिरी अच्छी नहीं है,

नेकी इक दिन काम आती है हम को क्या समझाते हो,
हम ने बे-बस मरते देखे कैसे प्यारे प्यारे लोग,

फिर ख़मोशी ने साज़ छेड़ा है,
फिर ख़यालात ने ली अंगड़ाई....

Javed Akhtar Best Shayari
मैं पा सका न कभी इस ख़लिश से छुटकारा,
वो मुझ से जीत भी सकता था जाने क्यूँ हारा,

उस की आँखों में भी काजल फैल रहा है,
मैं भी मुड़ के जाते जाते देख रहा हूँ,

इस शहर में जीने के अंदाज़ निराले हैं,
होंटों पे लतीफ़े हैं आवाज़ में छाले हैं....


Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi-(जावेद अख्तर शायरी इन हिंदी)~Thenewshayari
Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi-(जावेद अख्तर शायरी इन हिंदी)~Thenewshayari

जावेद अख्तर शायरी व लाइफ इन हिंदी
जिधर जाते हैं सब जाना उधर अच्छा नहीं लगता,
मुझे पामाल रस्तों का सफ़र अच्छा नहीं लगता,

इक खिलौना जोगी से खो गया था बचपन में,
ढूँढता फिरा उस को वो नगर नगर तन्हा,

कभी हम को यक़ीं था ज़ोम था दुनिया हमारी जो मुख़ालिफ़ हो तो हो जाए मगर तुम मेहरबाँ हो,
हमें ये बात वैसे याद तो अब क्या है लेकिन हाँ इसे यकसर भुलाने में अभी कुछ दिन लगेंगे....


JAVED AKHTAR SHAYARI ON LIFE
सब का ख़ुशी से फ़ासला एक क़दम है,
हर घर में बस एक ही कमरा कम है,

थीं सजी हसरतें दुकानों पर,
ज़िंदगी के अजीब मेले थे,

कभी जो ख़्वाब था वो पा लिया है,
मगर जो खो गई वो चीज़ क्या थी....

जावेद अख्तर के शेर-ओ-शायरी
ऊँची इमारतों से मकाँ मेरा घिर गया,
कुछ लोग मेरे हिस्से का सूरज भी खा गए,

ज़रा मौसम तो बदला है मगर पेड़ों की शाख़ों पर नए पत्तों के आने में अभी कुछ दिन लगेंगे,
बहुत से ज़र्द चेहरों पर ग़ुबार-ए-ग़म है कम बे-शक पर उन को मुस्कुराने में अभी कुछ दिन लगेंगे,

मैं क़त्ल तो हो गया तुम्हारी गली में लेकिन,
मिरे लहू से तुम्हारी दीवार गल रही है....


Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi-(जावेद अख्तर शायरी इन हिंदी)~Thenewshayari
Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi-(जावेद अख्तर शायरी इन हिंदी)~Thenewshayari

4 LINE SHAYARI BY JAVED AKHTAR
याद उसे भी एक अधूरा अफ़्साना तो होगा,
कल रस्ते में उस ने हम को पहचाना तो होगा,

यही हालात इब्तिदा से रहे,
लोग हम से ख़फ़ा ख़फ़ा से रहे,

मुझे दुश्मन से भी ख़ुद्दारी की उम्मीद रहती है,
किसी का भी हो सर क़दमों में सर अच्छा नहीं लगता,

ये ज़िंदगी भी अजब कारोबार है कि मुझे,
ख़ुशी है पाने की कोई न रंज खोने का....

अगर आपको हमारा Javed Akhtar Romantic Shayari in Hindi पसंद आया है। तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करियेगा। 



Thanks For Reading





Tags :- javed akhtar shayari 2 lines, javed akhtar shayari in urdu, javed akhtar shayari on love in hindi, javed akhtar shayari book pdf, javed akhtar romantic shayari in hindi, tarkash javed akhtar shayari, javed akhtar shayari on friendship in hindi, javed akhtar shayari video etc.

Post a Comment

0 Comments