Ilzaam Shayari | इल्ज़ाम शायरी | World's Best Ilzaam Shayari~Thenewshayari

Ilzaam Shayari | इल्ज़ाम शायरी | World's Best Ilzaam Shayari~Thenewshayari
Ilzaam Shayari | इल्ज़ाम शायरी | World's Best Ilzaam Shayari~Thenewshayari

-: Duniya Ko Haqikat :-

Duniya Ko Haqikat Ka Mere Pta Kuch Bhi Nahi,
Ilzaam Hazaaro Hai Aur Khata Kuch Bhi Nahi....

दुनिया को हकीकत का मेरे पता कुछ भी नहीं,
इलज़ाम हजारों है और खता कुछ भी नहीं।


Ilzaam Shayari | इल्ज़ाम शायरी | World's Best Ilzaam Shayari

-: Dil Pe Aaye Hue :-

Dil Pe Aaye Hue Ilzaam Se Pahchante Hai,
Log Ab Mujhe Tere Naam Se Jaante Hai....

दिल पे आये हुए इलज़ाम से पहचानते है,
लोग अब मुझे तेरे नाम से जानते है। 


Ilzaam Shayari | इल्ज़ाम शायरी | World's Best Ilzaam Shayari

-: Har Ilzaam Ka Haqdaar :-

Har Ilzaam Ka Haqdaar Wo Hume Bna Jaate Hai,
Har Khata Ki Saja Wo Hume Suna Jaate Hia,
Hum Har Baar Khamosh Rah Jaate Hai,
Kyoki Wo Apna Hone Ka Haq Jta Jaate Hia....

हर इलज़ाम का हक़दार वो हमे बना जाते है,
हर खता की सजा वो हमे सुना जाते है,
हम हर बार खामोश रह जाते है,
क्योकि वो अपना होने का हक जता जाते है।


Ilzaam Shayari | इल्ज़ाम शायरी | World's Best Ilzaam Shayari

-: Kon Kahta Hai Yaha :-

Kon Kahta Hai Yaha Pyaar Nibhane Ke Liye,
Dil Toh Bas Ek Khilona Hai Jamane Ke Liye....

कौन कहता है यहाँ प्यार निभाने के लिए,
दिल तो बस एक खिलौना है ज़माने के लिए,


Ilzaam Shayari | इल्ज़ाम शायरी | World's Best Ilzaam Shayari

-: Humare Har Sawal Ka :-

Humare Har Sawal Ka Sirf Ek Hi Jawab Aaya,
Pegam Jo Pahucha Hum Tak Bewfa Ilzaam Aaya...

हमारे हर सवाल का सिर्फ एक ही जवाब आया,
पैगाम जो पहुँचा हम तक बेवफा इलज़ाम आया। 


Ilzaam Shayari | इल्ज़ाम शायरी | World's Best Ilzaam Shayari

-: Karta Hoo Tumse Mohabbat :-

Karta Hoo Tumse Mohabbat Marne Par Ilzaam Hoga,
Kafan Utha Kar Dekhna Hotho Par Tera Hi Naam Hoga...

करता हूँ तुमसे मोहब्बत मरने पर इलज़ाम होगा,
कफ़न उठा कर देखना होठो पर तेरा ही नाम होगा। 


Ilzaam Shayari | इल्ज़ाम शायरी | World's Best Ilzaam Shayari

-: Mohabbat Toh Dil Se :-

Mohabbat Toh Dil Se Ki, Dimag Usne Lga Liya,
Dil Tod Diya Mera Aur Ilzaam Mujhpar Hi Lga Diya...

मोहब्बत तो दिल से की,
दिमाग उसने लगा लिया,
दिल तोड़ दिया मेरा उसने,
और इलज़ाम मुझपर ही लगा दिया।


-: Jaankar Wo Hume Jaan :-

Jaankar Wo Hume Jaan Naa Paaye,
Aaj Tak Wo Hume Pahchan Naa Paaye,
Khud Hi kar Li Bewafai Hum Ne Unse,
Taki Un Par Bewafai Ka Ilzaam Naa Aaye....

जानकार भी वो हमे जान ना पाए,
आज तक वो हमे पहचान ना पाए,
खुद ही कर ली बेवफाई हम ने उनसे,
ताकि उन पर बेवफाई का इलज़ाम ना आए।


-: Mujhse Hasrat Nahi :-

Mujhse Hasrat Nahi Mohabbat Ko Paane Ki,
Ab Toh Chahat Hai Mohabbat Ko Bhul Jaane Ki....

मुझे हसरत ही नहीं मोहब्बत को पाने की,
अब तो चाहत है मोहब्बत को भूल जाने की। 


-: Bewafa Toh Wo :-

Bewafa Toh Wo Khud Hai Aur, 
Ilzaam Kisi Aur Ko Dete Hai,
Pahle Naam Tha Mera Unke Labo Par,
Ab Wo Naam Kisi Aur Ka Lete Hai...

बेवफा तो वो खुद है और, 
इलज़ाम किसी और को देते है,
पहले नाम था मेरा उनके लबो पर, 
अब वो नाम किसी और का लेते है। 


-: Tum Mere Liye Koi :-

Tum Mere Liye Koi Ilzaam Naa Dundho,
Chaha Tha Tumhe Yahi Ilzaam Bahut Hai...

तुम मेरे लिए कोई इलज़ाम ना ढूंढो,
चाहा था तुम्हे यही इलज़ाम बहुत है। 


-: Wafadaar Aur Tum :-

Wafadaar Aur Tum Khayal Achha Hai,
Bewafa Aur Hum Ilzaam Achha hai....

वफ़ादार और तुम ख्याल अच्छा है,
बेवफा और हम इलज़ाम अच्छा है। 


-: Har Burai Ka Ilzaam :-

Har Burai Ka Ilzaam Mujh Par Aaya,
Kitna Bura Tha Mera Achha Hona Bhi...

हर बुराई का इलज़ाम मुझ पर आया,
कितना बुरा था मेरा अच्छा होना भी। 


-: Kya Ilzaam Duu Iss :-

Kya Ilzaam Duu Iss Jamane Ko,
Wo Jo Insaaniyat Se Gareeb Hai Aur,
Paise Se Bahut Ameer hai....

क्या इलज़ाम दू इस ज़माने को,
वो जो इंसानियत से गरीब है और,
पैसे से बहुत अमीर है। 


-: Mana Wo Mohabbat :-

Mana Wo Mohabbat Hai Meri,
Lekin Har Baar Wo Mujh Par Ilzaam Lagaye,
Isse Uski Mohabbat Nahi Dikhti.....

माना वो मोहब्बत है मेरी,
लेकिन हर बार वो मुझ पर इलज़ाम लगाए,
इससे उसकी मोहब्बत नहीं दिखती। 


-: Ab Har Ilzaam Mujhe :-

Ab Har Ilzaam Mujhe Mat Do,
Us Dafa Jab Nazre Mili Thi,
Toh Tum Bhi Muskura Rahi Thi...

अब हर इलज़ाम मुझे मत दो,
उस दफा जब नज़रे मिली थी,
तो तुम भी मुस्कुरा रही थी। 


-: Sar-E-Bazaar Niklu To :-

Sar-E-Bazaar Niklu To Ki Tomat,
Tanhai Me Bethu To Ilzaam-E-Mohabbat,
Uff Duniya Tere Tarike Aur Tera Prakhana...

सर-ए-बाजार निकलू तो की तोमत,
तन्हाई में बैठू तो इलज़ाम-ए-मोहब्बत,
उफ़ दुनिया तेरे तरीके और तेरा परखना। 


-: Khata Usne Ki Aur :-

Khata Usne Ki Aur Ilzaam Fir Bhi Mujh Par Aaya,
Nibhai To Thi Saari Wafaye Fir Bhi,
Wafa Karte-Karte Bewafa Me Mera Hi Naam Aaya...

खता उसने की और इलज़ाम फिर भी मुझ पर आया,
निभाई तो थी सारी वफायें फिर भी, 
बफा करते-करते बेवफा में मेरा ही नाम आया। 


-: Unka Ilzaam Lagane :-

Unka Ilzaam Lagane Ka Tarika Hi Gajab Tha,
Humne Khud Apne Khilaf Gawahi De Di....

उनका इलज़ाम लगाने का तरीका ही गज़ब था,
हमने खुद अपने खिलाफ गवाही दे दी। 


-: Bas Yahi Soch Kar :-

Bas Yahi Soch Kar Koi Safai Nahi Di Hai,
Bhale Hi Ilzaam Jhute Hai Par Lagaye Bhi Toh Tum Ne Hi Hai...

बस यही सोच कर कोई सफाई नहीं दी है,
भले ही इलज़ाम झूठे है पर लगाए भी तो तुम ने ही है।


Thanks For Reading



Tags :- Ilzaam Shayari 2 Line, Ilzaam Shayari in Hindi Images, Jhute Ilzaam Status, Galat Ilzam Quotes.

Post a Comment

0 Comments