Tareef Shayari on Eyes (आँखों की तारीफ पर शायरी)

हेल्लो,
दोस्तों स्वागत है। आपका हमारी आज की पोस्ट में दोस्तों जैसा की आप सभी को पता है। हम आपके लिये रोजाना नई-नई और बेहतरीन शायरी और कोट्स लेके आते रहते है। और आपका मनोरंजन करते है। और आप सभी भी हमे बहुत प्यार देते है। तो दोस्तों आज आपके लिए Tareef Shayari on Eyes पर शायरी लेके आए है। दोस्तों हमारी शायरी और कोट्स को अपने दोस्तों, रिश्तेदारों के साथ शेयर करना ना भूले। तो दोस्तों शुरू करते है। आज का शायरी का सफर : -

 उस घडी देखो उनका आलम,
नींद से जब हो बोझल आँखे,
कौन मेरी नजर में समाये,
देखी है मैंने तुम्हारी आँखे। 

Tareef Shayari on eyes in English
चिरागो को आँखों में महफूज़ रखना,
बड़ी दूर तक रात ही रात होगी,
मुसाफिर जो तुम भी, मुसाफिर है हम भी,
किसी मोड़ पर फिर मुलाकात होगी।


Nahili Aankhen shayari in English
आँखों में तेरी डूब जाने को दिल चाहता है,
इश्क़ में तेरे बर्बाद होने को दिल चाहता है,
कोई संभाले मुझे, बहक रहे है मेरे कदम,
वफ़ा में तेरी मर जाने को दिल चाहता है। 

Tareef Shayari on Eyes
खुदा जाने मेरा क्या वज़्न है उनकी निगाहो में ?
सुना है आदमी को वो नजर में तौल लेते है। 


Tareef Shayari on Eyes
नजर को नजर की खबर ना लगे,
कोई अच्छा भी इस कदर ना लगे हमे,
आपको देखा है बस उस नजर से,
जिस नजर से आपको नजर ना लगे। 


Tareef Shayari on Eyes
आँखे ही बना देती है फ़साना किसी का,
आँखे ही बना देती है दीवाना किसी का,
आँखे ही हँसाती है, आँखे ही रुलाती है,
आँखे ही बसा देती है घराना किसी का......
दिल की बाते बता देती है आँखे,
धड़कनो को जगा देती है आँखे,
दिल पे चलता नहीं जादू चेहरे का भी,
दिल को तो दीवाना बना देती है ये आँखे....

Tareef Shayari on Eyes
उदास आँखों में अपनी करार देखा है,
पहली बार उसे बेक़रार देखा है,
जिसे खबर ना होती थी मेरे आने जाने की,
उसकी आँखों में अब इंतेज़ार देखा है। 

Tareef Shayari on Eyes
मेरी आँखों के आंसू  कह रहे है मुझसे,
अब दर्द इतना है की सहा नहीं जाता,
न रोक पलकों से खुल कर छलकने दे,
अब यूँ इन आँखों में रहा नहीं जाता......


Tareef Shayari on Eyes
सुख गए फूल बहार वही है,
दूर रहते है पर प्यार वही हैं,
जानते है हम मिल नहीं पा रहे है, आपसे,
मगर! इस आँखों में मोहब्बत का इंतेज़ार वही है.....


Tareef Shayari on Eyes
तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रखा क्या है,
ये उठे सुबह चले, ये झुके श्याम ढले,
मेरा जीना मेरा मरना उन्ही के पलकों के तले,
तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रखा क्या है.....


Tareef Shayari on Eyes
उतरता तो नशा जाम का है,
यह जाम थोड़े ही है,
उन नशीली आँखों से निकलना,
आसान थोड़े ही है।


Tareef Shayari on Eyes
जो उनकी आँखों से बयां होते है,
वो लफ्ज शायरी में कहा होते है।


Tareef Shayari on Eyes
आज भी प्यारी है मुझे तेरी हर निशानी,
फिर चाहे वो दिल का दर्द हो या आँखों का पानी। 


Tareef Shayari on Eyes
बहुत अंदर तक तबाही मचाता है,
वो आँसू जो आँखों से बह नहीं पाता है।


Tareef Shayari on Eyes
तेरी याद को पसंद आ गई है,
मेरी आँखों की नमी,
हँसना भी चाहुँ तो रुला,
देती है तेरी कमी। 


Tareef Shayari on Eyes
रात की गहराई आँखों में उतर आई,
कुछ ख्वाब थे और कुछ मेरी तन्हाई,
ये जो पलकों से बाह रहे है हल्के-हल्के,
कुछ तो मज़बूरी थी मेरी बेवफाई।


Tareef Shayari on Eyes
मोहब्बत के भी कुछ राज होते है,
जगती आँखों में भी ख्वाब होते है,
जरुरी नहीं है कि गम में ही आँसू आए,
मुस्कुराती आँखों में भी सैलाब होते है।


Tareef Shayari on Eyes
आपकी आँखे ऊँची हुई तो दुआ बन गयी,
नीची हुई तो हया बन गयी,
जो झुक कर उठी तो खता बन गयी,
और उठ कर झुकी तो अदा बन गयी।


Tareef Shayari on Eyes
नशीली आँखों से जब वो हमे देखते है,
हम घबरा कर आँखे झुका लेते है,
कौन मिलाये उन आँखों से आँखे,
सुना है वो आँखों से अपना बना लेते है। 


Tareef Shayari on Eyes
तेरी आँखों के जादू से तू खुद नहीं है वाकिफ़,
ये उसे भी जीना सीखा देता है जिसे मरने का शौक हो।



Thank You

Post a Comment

0 Comments